देश में पहला लोकपाल नियुक्त

सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश न्यायमूर्ति पिनाकी चंद्र घोष को 19 मार्च, 2019 को देश का पहला लोकपाल नियुक्त किया गया। वे वर्तमान समय में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्य के रूप में सेवारत हैं।

लोकपाल के अन्य सदस्य

सशस्त्र सीमा बल (SSB) की पूर्व प्रमुख अर्चना रामसुंदरम, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्य सचिव दिनेश कुमार जैन, महेंद्र सिंह और इंद्रजीत प्रसाद गौतम को लोकपाल का गैर – न्यायिक सदा सदस्य नियुक्त किया गया है। न्यायमूर्ति दीलिप बी भोसले, न्यायमूर्ति अजय कुमार त्रिपाठी को भ्रष्टाचार निरोधक निकाय का न्यायिक सदस्य नियुक्त किया गया है।

भारत में लोकपाल का सफर

भारत में पहली बार लोकपाल का मुद्दा वर्ष 1960 में के एम मुंशी ने उठाया था। लोकपाल विधेयक इंदिरा गांधी सरकार में 9 मई, 1968 में पहली बार संसद में पेश हुआ। भारत में लोकपाल बिल 17 दिसम्बर, 2013 को राज्यसभा और 18 दिसम्बर, 2018 को लोकसभा में पास हुआ।

विश्व और लोकपाल

विश्व में सबसे पहले लोकपाल 1809 में स्वीडन में नियुक्त किया गया था। स्वीडन सहित दुनिया के अन्य देशों में लोकपाल को ओम्बड्समैन कहा जाता है। भारत से पहले 135 देशों में ओम्बड्समैन की नियुक्ति की जा चुकी हैं।

स्रोत : अरिहंत समसामयिकी