दुनिया की सबसे बड़ी पुस्तक, एस्टाउण्डिंग भगवदगीता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 26 फरवरी, 2019 को दिल्ली के इस्कॉन मंदिर में विशाल भगवदगीता का विमोचन किया। इस विशाल गीता का वजन 800 किलोग्राम है। इस्कॉन के अनुसार इसे एस्टाउण्डिंग भगवदगीता नाम दिया गया है। यह दुनिया की सबसे बड़ी पुस्तक है, जिसे सिंथेटिक कागज, सोना, चांदी और प्लैटिनम आदि धातुओं का प्रयोग करके तैयार किया गया है। इसके प्रति पन्ने को पलटने के लिए 4 लोगो की जरुरत होती है। इस किताब को इस्कॉन इटली द्वारा बनाया गया है।
इस गीता को इस्कॉन मंदिर संस्था द्वारा बनवाया गया है, जिसे छपने में करीब ढाई वर्ष का समय तथा 1.5 करोड़ रुपये की लागत आई। इसे इटली के मिलान शहर से समुद्री मार्ग द्वारा गुजरात के मुद्रा लाया गया।
इसकी लम्बाई 12 फीट, चौड़ाई 9 फीट है तथा कुल 670 पन्ने है। इसके कवर पेज को बनाने में सैटेलाईट बनाने के लिए प्रयोग होने वाले कार्बन फाइबर का उपयोग हुआ है। इसका निर्माण गीता प्रचार के 50 वर्ष पूरे करने के उपलक्ष्य में किया गया।

स्रोत: अरिहंत समसामयिकी